संपादकीय

संपादकीय

परोपकार ही श्रेष्ठ धर्म है…..

यह ध्रुव सत्य है कि मानवीय गुणों से सुसम्पन्न व्यक्ति को ही सच्चे अर्थों में मानव कहा जा सकता है। यदि उपरोक्त मानवीय गुण हम में नहीं हैं तो हम मानव होते हुए भी सच्चे अर्थों में मानव नहीं हैं। मानव मात...

योग ब्रह्माण्ड की अनमोल ज्ञान सम्पदा है

योग शब्द का सर्वाधिक तर्क संगत एवं मूल अर्थ है- जोडऩे का कार्य। अर्थात्‌ जिसके द्वारा जोडऩे का कार्य सम्पन्न हो, वह योग है। योग शब्द के अन्य अनेक अर्थ भी हैं। जैसे- संयोग, सम्बन्ध, सम्पर्क, युक्ति, उप...

कर्मठ एवं लोकप्रिय मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस

भारतीय राजतीतिक क्षितिज पर आज भी कुछ राजनेता अपने कृतित्व एवं व्यक्तित्व के आधार पर तथा जनसेवी राजनीति के माध्यम से जनता की सेवा करते हुए दैदीप्यमान नक्षत्र की भांति चमत्कृत हैं तथा देश समाज द्वारा सम...

×