रचनात्मक तरीके से माइक्रोसॉपट इंडिया का नेतृत्व कर रहे हैं : अनन्त माहेश्वरी

Must read

माहेश्वरी वर्तमान में माइक्रोसॉपट इंडिया के प्रेसिडेंट हैं। वह माइक्रोसॉपट के समग्र व्यापार, व्यावसायिक विकास, नीति निर्माण और समावेशी विकास जैसे अन्य महत्वपूर्ण प्रबंधन दायित्वों का कुशल निर्वहन करते हैं। अनन्त भारत में सरकारी संस्थाओं और निजी कंपनियों की डिजिटल परिवर्तन की यात्रा में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। वह नैसकॉम कार्यकारी परिषद के सदस्य, सीआईआई की विभिन्न आईटी समितियों के अध्यक्ष और एस्पेन लीडरशिप इंस्टीट्यूट के फेलो के रूप में भी अपनी महत्वपूर्ण सेवाएँ देते हैं। इसके साथ ही साथ अनन्त हिंडाल्को इंडस्ट्रीज के बोर्ड में एक स्वतंत्र निदेशक भी हैं। माइक्रोसॉपट से पहले, अनंत हनीवेल इंडिया के अध्यक्ष के रूप में भी काम कर चुके हैं। अनन्त की योग्यता, पात्रता और उत्कृष्ट व्यावसायिक क्षमता से प्रभावित होकर माइक्रोसॉपट ने अपने भारतीय व्यवसाय का नेतÀत्व उनके हाथों में सौंपा है। अनंत माहेश्वरी भारत में माइक्रोसॉपट प्रोडक्ट, सर्विस और सपोर्ट का व्यापक कार्य देखते हैं और वह कंपनी की प्रगति को रचनात्मक तरीके से आगे बढ़ रहे हैं।
अनन्त का मानना है कि आईटी बूम को अब डेटा एवं आर्टिफिसियल इंटेलिजेंस की तरफ ले जाना होगा। इन क्षेत्रों में काफी कुछ निवेश, शोध एवं विकास और कौशल विकास हो रहा है। वह कहते हैं कि डेटा गवर्नेंस को मजबूत करना होगा ताकि इसे सही तरीके से प्रबंधित कर इंडस्ट्री, कारोबारियों, स्टार्टअप, सरकार, एकेडमिक जगत और सबको मिलकर डेटा एवं आर्टिफिसियल इंटेलिजेंस के व्यावहारिक प्रयोग को बढ़ावा देने पर काम किया जा सके।
हाल ही में माइक्रोसॉपट ने भारत की प्रमुख आईटी कंपनियों में से एक इन्फोसिस के साथ आस्ट्रेलिया की एनर्जी और इलेक्ट्रिसिटी डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी ऑसग्रिड के साथ एक डील साइन की है। यह डील एक बहुवर्षीय डील है। इन्फोसिस और माइक्रोसॉफ्ट के ऑसग्रिड के साथ डील करने का सबसे बड़ा मकसद ऑसग्रिड के क्लाउड ट्रांसफॉर्मेशन में तेज़ी लाना है। ऑसग्रिड ऑस्ट्रेलिया की सबसे बड़ी एनर्जी और इलेक्ट्रिसिटी डिस्ट्रीब्यूशन कंपनियों में से एक है। ऐसे में इस डील से उसको काफी फायदा मिलेगा, पर इसी के साथ-साथ माइक्रोसॉफ्ट और इन्फोसिस को भी फायदा होगा।

आज के आईने में माइक्रोसॉफ्ट

माइक्रोसॉफ्ट विश्व की सर्वाधिक लोकप्रिय आईटी कंपनियों में से एक है। यह मुख्य रूप से कम्प्यूटर इंजीनियरिंग के क्षेत्र में काम करती है और विश्व की सबसे बड़ी सॉपटवेयर कम्पनी है। माइक्रोसॉपट को एप्पल, एमेजन, गूगल, और फेसबुक इंक के साथ प्रौद्योगिकी के बिग फाइव में से एक माना जाता है। १०० से भी अधिक देशों में फैली इसकी शाखाओं में लगभग १ लाख ८२ हजार से भी अधिक लोग काम करते हैं। यह कम्प्यूटर सॉपटवेयर, उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स, व्यक्तिगत कम्प्यूटर और सम्बन्धित सेवाओं का विकास, निर्माण, लाइसेंस, समर्थन और बिक्री का काम करती है। इसके सबसे प्रसिद्ध सॉपटवेयर उत्पाद ऑपरेटिंग सिस्टम, माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस सूट और इण्टरनेट एक्सप्लोरर और एज वेब ब्राउजर के माइक्रोसॉपट विण्डोज लाइन काफी लोक्रप्रिय रहे हैं।
१९९० में माइक्रोसॉपट ने भारत को अपना कार्यक्षेत्र बनाया था। माइक्रोसॉफ्टभारत स्थित अपने लोकल डेटा सेंटर को अपने वैश्विक डेटा संग्रह की सेवाएं प्रदान करता है ताकि भारतीय नव उद्योग, व्यवसायाें और सरकारी संस्थाओं में डिजिटल रूपांतरण की प्रक्रिया को निरंतर आगे बढ़ाया जा सके। आज भारत के ११ शहरों – अहमदाबाद,बेंगलुरु, चेन्नई, नई दिल्ली,गुरुग्राम,नॉएडा, हैदराबाद,कोच्ची, कोलकाता, मुंबई और पुणे में माइक्रोसॉपट की विभिन्न संस्थाओं में १६ हजार से ज्यादा कर्मचारी काम करते हैं जो बिक्री, विपणन, अनुसंधान, विकास और ग्राहक सेवा से संबंधित क्षेत्रों में अपनी सेवाएं निरंतर प्रदान कर रहे हैं। माइक्रोसॉफ्ट प्रत्येक व्यक्ति, संस्था को एक संसाधन युक्त संसार में विकसित करने के लिए प्रतिबद्ध है। पर्यावरण के प्रति अनुकूल व्यवहार और सुरक्षा उपायों में जिम्मेदार बनने की माइक्रोसॉफ्ट की प्रतिबद्धता उसकी कार्यप्रणाली में स्पष्ट तौर पर परिलक्षित होती है। प्रौद्योगिकी का उपयोग कर व्यक्ति और संस्थाओं को उनकी पूरी क्षमता का एहसास कराना, नए व्यवसायों को बढ़ावा देना, एक कुशल कामकाज का वातावरण तैयार करना और सभी को समान अवसर प्राप्त कराने की प्रतिबद्धता ही माइक्रोसॉफ्ट का प्रमुख उद्देश्य है।
माइक्रोसॉफ्ट की कॉरपोरेट नीतियों के केंद्र में दुनिया भर के समुदाय हैं और उनको गुणवत्तापूर्ण सेवाएं प्रदान करना ही इसका लक्ष्य है। माइक्रोसॉफ्ट उन महिलाओं के लिए एक महत्वपूर्ण पहल करना चाहता है जो किसी ना किसी कारणवश अपनी नौकरी छोड़कर स्थिरता के दौर में हैं और भविष्य में कार्य करना चाहती हैं। महिलाओं और युवाओं को सशक्त बनाने की इसकी प्रतिबद्धता व्यक्तिगत और संस्थागत स्तरों पर बदलाव करने के पहल से शुरू होती है। यह कम्पनी ऐसे कौशल प्रदान करने के लिए प्रयासरत है जो सभी महिलाओं और युवाओं को उनके कैरियर में स्थिरता लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाये।माइक्रोसॉफ्ट व्यावसायिक जिम्मेदारियों के साथ-साथ अपनी सामाजिक जिम्मेदारियों का भी पूरा ख्याल रखता है और यह विभिन्न गैर लाभकारी संस्थाओं को सामाजिक हितों एवं उद्देश्यों की पूर्ति हेतु उन्हें वित्तीय सहायता प्रदान करता है ताकि समाज की बेहतरी के लिए सकारात्मक तरीके से कुछ किया जा सके।

नवीनतम लेख