निवेश की आदत से आती है समृद्धि – विनय टोंसे

आमतौर पर म्युचुअल फंड में निवेश को लेकर अतिवादी धारणाएँ पाई जाती हैं। कुछ के लिए यह अनिश्चित और जोखिम भरा है तो कुछ इसे कारू का खजाना समझते हैं। सच्चाई इसके बीच में कहीं है। विनय टोंसे भी इस बाजार को लेकर ऐसी ही राय रखते हैं।

Must read

पेशेवर भूमिका और नया दायित्व

श्री विनय टोंसे एसबीआई म्यूचुअल फंड के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। श्री विनय भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के उप प्रबंध निदेशक हैं जो 22 जून, 2020 से एसबीआई फंड्स मैनेजमेंट लिमिटेड में प्रतिनियुक्ति पर हैं। इन्होंने 1988 में प्रोबेशन अधिकारी के रूप में एसबीआई के साथ अपना कैरियर शुरू किया था। उन्होंने भारत और बाहर विभिन्न व्यावसायिक कार्यों का नेतृत्व किया। इन्हें बैंकिंग के विभिन्न क्षेत्रों जैसे संचालन, खुदरा बैंकिंग सहित कृषि ऋण और एमएसएमई क्षेत्रों, कॉर्पोरेट क्रेडिट, अंतर्राष्ट्रीय बैंकिंग ऑपरेशन, ट्रेजरी संचालन, इक्विटी पोर्टफोलियो प्रबंधन, निजी इक्विटी, उद्यम पूंजी और प्रशिक्षण के प्रबंधन का अच्छा अनुभव है। एसबीआई फंड्स मैनेजमेंट लिमिटेड में अपनी प्रतिनियुक्ति से पहले, वह मुख्य महाप्रबंधक के रूप में एसबीआई के चेन्नई सर्कल का नेतृत्व कर रहे थे। उनके पास तमिलनाडु और पुडुचेरी में स्थित SBI की सभी शाखाओं और कार्यालयों के प्रबंधन की समग्र जिम्मेदारी थी।

अपने नए दायित्व के बारे में विनय कहते हैं “पिछले डेढ़ साल उद्योग के साथ-साथ हमारे लिए भी बहुत महत्वपूर्ण रहे हैं, और एमडी-सीईओ के रूप में मेरा समय रोमांचक और संतोषजनक दोनों रहा है। देश में नंबर 1 एएमसी बनने के ठीक बाद मैं एसबीआई फंड मैनेजमेंट में शामिल हुआ था और उसके बाद महामारी और वैश्विक लॉकडाउन का दौर प्रारंभ हो गया। लेकिन मुझे यह जानकर खुशी हो रही है कि म्युचुअल फंड कारोबार इतना ज्यादा प्रभावित नहीं हुआ।” वास्तव में, इस दौरान इनकी कंपनी ने कई मील के पत्थर पार करने में कामयाब रहे, जैसे कि 6 लाख करोड़ रुपये के एयूएम के निशान को छूना, उद्योग के सबसे बड़े ओपन-एंडेड एनएफओ को बंद करना, अपना पहला अंतरराष्ट्रीय फंड लॉन्च करना, अनेक अन्य उपलब्धियों के साथ ये सब इस अवधि के दौरान घटित हुआ।

बाजार की अनिश्चितता और निवेश का गणित

इसी संदर्भ में वो कहते हैं “आगे चलकर इस गति को बनाए रखना ही असली चुनौती होगी। हमारा मुख्य बल इसी पर है कि ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह से सेवाओं की गुणवत्ता से समझौता किए बिना अपने ग्राहकों को मूल्य प्रदान करना। जैसे कि कहा जाता है “जब आप शीर्ष पर हों, तो ऊपर की ओर बढ़ते रहें”, हमारा ध्यान निवेशकों की वित्तीय जरूरतों के बारे में अपनी समझ को गहरा करने और अनुकूलित समाधान पेश करने पर रहेगा। इसके अलावा, हमारे लिए एक और निकट अवधि की योजना शेयर बाजारों में सूचीबद्ध करने की है।”

ओमिक्रोन के कारण हाल के दिनों में बाजार में उतार-चढ़ाव देखा गया है, खासकर पिछले कुछ महीनों में। कुछ लोग यह भी कह सकते हैं कि बाजार अधिक लागतपूर्ण हो गए हैं। लेकिन पिछले 18 महीनों में, बाजारों में काफी तेजी देखी गई है और निवेशकों ने इस अवधि के दौरान पैसा भी कमाया है। विनय का मानना है कि वास्तव में, हमने महामारी के दौरान निवेशकों के व्यवहार में खर्च से निवेश तक, पारंपरिक निवेश विधियों से म्यूचुअल फंड की ओर तथा एक अनिश्चित निवेश पैटर्न से नियमित निवेश के रूप में बदलाव देखा। इसका मतलब है कि निवेशकों ने अल्पकालिक अनिश्चितता के बावजूद बाजार में निवेश करना जारी रखा जो हम देख रहे हैं। मौजूदा बाजार के संबंध में, हमारा मानना ​​है कि बाजार रुक-रुक कर अस्थिर रह सकता है, लेकिन बाजार में अवसर हैं, भले ही कुछ क्षेत्र वर्तमान में लागतकारी दिख रही हों।

साथ ही ये इस अनिश्चितता से निपटने के उपाय भी बताते हैं। ये कहते हैं “बाजार में अनिश्चितता से निपटने के दो तरीके हैं। एक है एसआईपी के माध्यम से निवेश करना – लंबी अवधि में एक सुसंगत और व्यवस्थित तरीके से। दूसरा, यह उन निवेशकों के लिए है जो इक्विटी में अपना 100% निवेश नहीं करना चाहते हैं। उन्हें हम डेट हाइब्रिड फंडों में निवेश करने का सुझाव देते हैं जो मौजूदा बाजार स्थितियों को देखते हुए इक्विटी और डेट का एक इष्टतम मिश्रण प्रदान करते हैं।”

मुद्रास्फीति के आंकड़ों और ब्याज दरों पर अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व के फैसले का शेयर बाजार पर पड़ने वाले असर के संबंध इनकी राय है कि मुद्रास्फीति के आंकड़ों और यूएस फेड की कार्रवाइयों का कुछ प्रभाव होगा, पर इसे मापना मुश्किल है। यह कहना गलत नहीं होगा कि इसमें से कुछ को बाजारों ने पहले ही आत्मसात कर लिया है। आपूर्ति पक्ष के मुद्दों को देखते हुए मुद्रास्फीति एक निरंतर चिंता का विषय रही है और यूएस फेडरल रिजर्व के ब्याज दरों को बढ़ाने के निर्णय की भी उम्मीद की जा रही थी। इसलिए, इन घटनाओं के कारण अचानक तेज हलचल की संभावना कम है। ऐसा कहने के बाद, हमारा मानना ​​है कि अल्पकालिक अस्थिरता बनी रहेगी और यह मुद्रास्फीति और फेड के निर्णयों के अलावा अन्य कारकों द्वारा लाई जा सकती है।

 भारतीय निवेशक और मुनाफा

निवेशक किस तरह अधिकतम लाभ प्राप्त कर सकें इस संबंध में विनय का मानना है कि बाजार में हर समय अवसर उपलब्ध है। इन अवसरों का अधिकतम लाभ उठाने का एकमात्र तरीका हर समय बाजार में निवेश करते रहना है। निवेशकों को लंबी अवधि के धन सृजन पर भी ध्यान देना चाहिए, न कि केवल अल्पकालिक लाभ कमाने के अवसरों पर। एक निवेशक के लिए यह समझना महत्वपूर्ण है कि उनके लक्ष्य और रिटर्न की उम्मीदें क्या हैं और उसी के अनुसार निवेश का तरीका चुनें।

बेहतर रिटर्न के लिए इनका सुझाव यही है कि रिटर्न आम तौर पर आपके द्वारा लिए जाने वाले जोखिम की मात्रा का एक कारक होता है, और जोखिम आपके निवेश के चुनाव और परिसंपत्ति श्रेणी की पसंद पर निर्भर करता है। इन दोनों कारकों पर भी आपके निवेश क्षितिज के अनुरूप विचार किया जाना चाहिए।

सर्वोत्तम संभव रिटर्न प्राप्त करने के लिए, निवेशकों को पहले यह पहचानना चाहिए कि उनका वित्तीय लक्ष्य क्या है और वे किसलिए बचत कर रहे हैं। केवल उच्च रिटर्न की चाह रखने वाली यह एक-ट्रैक मानसिकता है जिसे निवेशकों को कोशिश करनी चाहिए और इससे दूर जाना चाहिए। लक्ष्य के बिना रिटर्न की तलाश करना उस जहाज की तरह है जो बिना मंजिल के चल पड़ा है। एक बार लक्ष्य की पहचान हो जाने के बाद, निवेशकों को उस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए सबसे उपयुक्त परिसंपत्ति वर्गों और उत्पादों में अपने निवेश की योजना बनानी चाहिए। उसके बाद, निवेशकों को अपनी योजना पर टिके रहना चाहिए और नियमित और सुसंगत तरीके से निवेश करना जारी रखना चाहिए।

क्रिप्टो करेंसी के बारे में इनका विचार काफी स्पष्ट है। ये कहते हैं ” क्रिप्टो मुद्राएँ अनियमित हैं और वैश्विक स्तर पर सरकार के साथ-साथ केंद्रीय बैंकों के लिए बहुत सारी चिंताएं पैदा करती हैं। विशेषज्ञ क्रिप्टो में निवेश के लाभ-हानि की गणना कर रहे हैं। अभी क्रिप्टों में केवल उन निवेशकों को हाथ आजमाना चाहिए जिनके पास जोखिम लेने की क्षमता है,  परिसंपत्ति की गतिशीलता की समझ है और जो अपने निवेश पर नुकसान को सहने की क्षमता रखते हैं। दूसरों के लिए यही सलाह कि वे सरकार या नियामक द्वारा उपयुक्त कानूनों के आने की प्रतीक्षा करें।”

तकनीकी नवाचार और निवेशक शिक्षा

तकनीकी नवाचार न केवल म्यूचुअल फंड उद्योग के लिए बल्कि सभी क्षेत्रों में सबसे महत्वपूर्ण मानकों में से एक है। दुनिया तेजी से बदल रही है और बदलते बाजार की गतिशीलता को बनाए रखने के लिए समस्त भौगोलिक क्षेत्रों से जुड़ने के लिए एक मजबूत और निर्बाध डिजिटल बुनियादी ढांचा होना आवश्यक है। ये कहते हैं “एक उद्योग के रूप में, न केवल व्यापार के लिए बल्कि अपनी आंतरिक प्रक्रियाओं के लिए भी एक मजबूत प्रौद्योगिकी अवसंरचना की आवश्यकता और महत्व को समझना जरूरी है। आज हमारे पास विभिन्न डिजिटल संसाधन हैं जो निवेशकों को संपूर्ण सेवाएं प्रदान करती हैं, चाहे वह लेनदेन हो, ग्राहक सेवा हो या निवेशकों को वित्तीय नियोजन की आवश्यकता के बारे में जागरूक करना।”

यह उद्योग पिछले कुछ समय से निवेशक शिक्षा (आईई) पर ध्यान केंद्रित कर रहा है। ‘म्यूचुअल फंड सही है’ उद्योग का सबसे सफल आईई अभियान है जिसने जनता तक पहुंचने और उन्हें म्यूचुअल फंड में निवेश की अवधारणा से परिचित कराने में मदद की। इस संदर्भ में इनका कहना है “एएमसी के रूप में हम निवेशकों को न केवल विभिन्न निवेश के तरीकों के बारे में शिक्षित करने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, बल्कि वित्तीय नियोजन की आवश्यकता, व्यवस्थित निवेश के महत्व, बाजार की अस्थिरता के प्रबंधन के बारे में भी ध्यान केंद्रित कर रहे हैं।

आगामी योजना के बारे में विनय कहते हैं “हम अपनी वृद्धि का इस प्रकार आकलन करते हैं बाजार में हमारी पैठ कितनी है। हम अगले तीन वर्षों में देश भर में अपनी पहुँच को दोगुना करने की योजना बना रहे हैं।”

 

नवीनतम लेख